मध्यकाल में शहरीकरण की अवधारणा एवं उसके मूल तत्व-एक ऐतिहासिक अध्ययन


Abstract


सारांश
प्रस्तुत शोध पत्र में मध्यकाल में शहरीकरण की अवधारण एवं उसके मूल तत्व पर ऐतिहासिक दृष्टि से प्रकाश डाला गया है। शहरीकरण तो प्राचीन काल से चली आ रही प्रक्रिया है। लेकिन मध्यकाल में शहरीकरण की जो अवधारणा विकसित हुई वह एक नये प्रतिमान हमारे सामने प्रस्तुत करती है। प्रस्तुत शोध पत्र में शहरीकरण को परिभाषित करते हुए मध्यकाल में उसकी अवधारणा एवं उसके मूल तत्वों का ऐतिहासिक विश्लेषण किया गया है। प्रस्तुत शोध पत्र में यह दिखाने का प्रयास किया गया है कि शहरीकरण अनवरत चलने वाली प्रक्रिया है।
शब्द कुंजीः मध्यकाल, शहरीकरण, अवधारणा, तत्व, ऐतिहासिक, विश्लेषण, हड़प्पा, मोहनजोदडों, सिवीटास, अधोसंरचनाएँ, जनसंख्या, अर्थव्यवस्था, शहरी क्रंाति, इंग्लैंड, पारम्परिक


Full Text:

PDF

References


- Naqvi H.K., 1972, Urbanization and urban centers under the great Mughals, IIOAS, Simla.

- Stein, Burton, 2010, A History of India, Wiley-Blackwell Publication.

आर. रामचन्द्रन, अरबनाइजेशन एण्ड अर्बन सिस्टम, आक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी प्रेस, 2011

जैन, शशि, 2001, नगरीय समाजशास्त्र, रिसर्च पब्लिकेशन, जयपुर दिल्ली।

बंगा, इंदु, 1991, सिटीज आॅफ इण्डिया, मनोहर पब्लिसर्स एण्ड डिस्ट्रीब्यूटर्स।

अनुराग, 2017, मध्यकालीन भारत में नगरों का विकास, स्वरूप एवं वर्गीकरण 1206-1707 ई.ः एक अध्ययन, प्दजमतदंजपवदंस रवनतदंस व ितमेमंतबी पद मबवदवउपबे ंदक ेवबपंस ेबपमदबमेए प्ैैछरू 2249.7382

चंद्रा, सतीश, 2003, मध्यकालीन भारत (1526-1748 ई.) ओरिएन्ट ब्लेक स्वान पब्लिसर्स, नई दिल्ली।

वर्मा, हरिश्चंद्र, 1983, मध्यकालीन भारत, भाग-1 (750-1540ई.) हिन्दी माध्यम कार्यान्वय निदेशालय, दिल्ली विश्वविद्यालय

वर्मा, हरिश्चंद्र, 1983, मध्यकालीन भारत भाग-2 (1540-1761 ई.) हिन्दी माध्यम कार्यान्वय निदेशालय,दिल्ली विश्वविद्यालय


Refbacks

  • There are currently no refbacks.