भारत में ग्रामीण विकास की अवधारणा का एक अध्ययन

धीरेन्द्र चैहा डाॅ. एस. आर. अहीरे

Abstract


मैं ऐसे भारत के लिए कार्य करूंगा जहां अत्यंत गरीब व्यक्ति यह अनुभव करे कि यह उसका अपना देश है जिसके निर्माण में उसकी भी प्रभावी भूमिका हो। ऐसा भारत जहां न कोई बड़ा होगा न कोई छोटा, ऐसा भारत जहां सभी समुदाय पूर्ण मैत्रीभाव से रह सकें।”
                                                                            महात्मा गांधी


Full Text:

PDF

References


प्रो. आर. पी. जोशी, डाॅ. अरूणा भारद्वाज - भारत मे ग्रामीण एवं शहरी स्थानीय शासन (राजस्थान हिन्दी ग्रन्थ अकादमी, जयपुर - 2018 प्र सं. 209

डी. सी. पन्त-भारत में ग्रामीण विकास (काॅलेज बुक डिपो, जयपुर-2019) प्र सं. 12

ए. डी. एन. वाजपेयी, ज. प्र. शुक्ल - गांधी का आर्थिक चिन्तन मानव तत्व और आर्थिक क्षमता के विशेष सन्दर्भ मेंश् (काॅलेज बुक डिपो, जयपुर - 2017) प्र सं. 57

सुभाष कश्यप - हमारा संविधान (नेशनल बुक ट्रस्ट इंडिया, नई दिल्ली - 2011 प्र सं. 312

मधु जैन - भारतीय अर्थव्यवस्था के विविध आयाम (आदि पब्लिकेशन्स - 2011) प्र सं. 241

कुरुक्षेत्र पत्रिका, अगस्त, 2019 प्र सं. 2

डी. सी. पन्त - भारत में ग्रामीण विकास (काॅलेज बुक डिपो, जयपुर-2011) प्र सं. 122

ग्रामीण भारत - ग्रामीण विकास मंत्रालय की मासिक समाचार पत्रिका


Refbacks

  • There are currently no refbacks.